मेधालय में केंद्रीय राज्य मंत्री ने किया प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का शुभारंभ

Daily news network Posted: 2017-06-20 17:47:33 IST Updated: 2017-06-20 17:47:33 IST
मेधालय में केंद्रीय राज्य मंत्री ने किया प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का शुभारंभ
  • केंद्रीय राज्य मंत्री राजेन गोहेन ने सोमवार को मेघालय में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) का शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) से संबंधित महिलाओं को साफ-सुथरी रसोई देना है।

शिलॉन्ग।

केंद्रीय राज्य मंत्री राजेन गोहेन ने सोमवार को मेघालय में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) का शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) से संबंधित महिलाओं को साफ-सुथरी रसोई देना है। 



पीएमयूवाई का उद्देश्य 2019 तक पांच करोड़ बीपीएल परिवारों को एलपीजी कनेक्शन प्रदान करना है और 2019 तक 10 करोड़ नए एलपीजी कनेक्शन जोड़ने उद्देश्य है।



असम, नागालैंड, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में योजना शुरू करने के बाद मेघालय में पीएमयूवाई का शुभारंभ किया गया। राज्य में पीएमयूवाई के एक प्रतीकात्मक लॉन्च के रूप में 24 बीपीएल लाभार्थियों को एलपीजी कनेक्शन दिया गया।



इस अवसर पर गोहेन ने कहा कि देश में 10 करोड़ से अधिक परिवारों का खाना लकड़ी या अन्य स्रोतो पर बनता है। जिससे उनकी रसोई प्रदूषित होती है। इस योजना के तहत 2.35 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को एलपीजी कनेक्शन प्रदान किया गया है। 



उन्होंने कहा कि एक करोड़ से अधिक उपभोक्ताओं ने अपने सब्सिडी वाले एलपीजी कनेक्शन को स्वेच्छा से प्रधान मंत्री के आह्वान पर छोड़ दिया। गोहैं ने समाज के सबसे गरीब वर्गों के विकास पर केंद्र की प्रतिबद्धता पर बल दिया और कहा कि पीएमयूवाई सबका साथ सबका विकास के प्रधान मंत्री के सपने का एक हिस्सा है।



महिला सशक्तिकरण के लिए महत्वपूर्ण कदम के रूप में पीएमयूवाई का उल्लेख करते हुए मेघालय के स्वास्थ्य मंत्री रोशन वारजारी ने वितरकों से एलपीजी की उपयोगिता के बारे में उपभोक्ता को जागरूक करने का आग्रह किया।



बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 मई 2016 को बलिया(उत्तर प्रदेश) से प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत देशभर के गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले घरों की महिलाओं को स्वच्छ रसोई ईंधन प्रदान का कार्य शुरू किया था। इसका उद्देश्य 2019 तक 10 करोड़ नए घरेलू एलपीजी कनेक्शन जोड़ने की व्यापक कार्यक्रम का हिस्सा है।