त्रिपुरा से वामपंथियों की सरकार का उखाड़ फेंके:आठवले

Daily news network Posted: 2018-02-15 17:49:45 IST Updated: 2018-02-15 17:49:45 IST
त्रिपुरा से वामपंथियों की सरकार का उखाड़ फेंके:आठवले
  • आठवले ने कहा है कि त्रिपुरा में वामपंथी सरकार दलित और आदिवासियों का उपयोग सिर्फ मत हासिल करने के लिए करती है

अगरतला।

केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने कहा है कि त्रिपुरा में वामपंथी सरकार दलित और आदिवासियों का उपयोग सिर्फ मत हासिल करने के लिए करती है और सत्ता में आने के बाद उनकी मूलभूत सुविधाओं पर वह ध्यान नहीं देती। आठवले ने जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि पिछले 25 वर्ष से त्रिपुरा में वामपंथियों की सरकार है, लेकिन सरकार दलित और आदिवासियों को रोजगार नहीं दे सकी। उन्होंने जनता से मांग की कि गरीबों की उपेक्षा करने वाली वाम पंथी सरकार को उखाड़ फेंके। त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आठवले) के उम्मीदवार राजू दास सुराजयमणीनगर क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। त्रिपुरा विधानसभा में कुल 60 सीटों में से 59 सीटों पर आरपीआई ने भारतीय जनता पार्टी को चुनाव में समर्थन दिया है।


बता दें कि त्रिपुरा की 60 सदस्यीय विधानसभा के लिए 18 फरवरी को मतदान होना है। यहां तीन मार्च को परिणाम सामने आएंगे। बता दें कि त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार खुद मान चुके हैं कि इस बार उनका मुकाबला भारतीय जनता पार्टी से है। वहीं भापजा भी त्रिपुरा में वामपंथियों के गढ़ को ढहाने के लिए पूरी कोशिश कर रही है। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद त्रिपुरा के दौरे पर थे। उन्होंने यहां त्रिपुरा की राजधानी अगरतला के शांतिर बाजार में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कि आज मैं बहुत खुश हूं।


उन्होंने त्रिपुरा वासियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप लोगों ने आज एक नया इतिहास बना दिया है, त्रिपुरा के किसी कोने में, इतने बड़े जन-सागर का आशीर्वाद पाने का सौभाग्य पहले कभी किसी को नहीं मिला होगा जितना आज आप लोगों ने मुझे दिया है। उन्होंने त्रिपुरा की वाम सरकार सहित कांग्रेस पार्टी पर भी हमला बोला। पीएम ने कहा कि जब ये वाम दल के लोग निर्दोषों की हत्या करते हैं तो ये पक्का हो जाता है कि वो पराजय से कांप रहे हैं।


प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि वाम दलों ने 20-25 साल से यहां खूब मौज काटी है। अब समय आ गया है कि जनता सरकार से जवाब मांगेगी। अब सरकार को हिसाब देने का वक्त आ गया है। अब त्रिपुरा की जनता एक पल भी वाम दल की सरकार को सहने को तैयार नहीं है। हमारी सरकार न्यू इंडिया के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन हम चाहते हैं कि एक आधुनिक और न्यू त्रिपुरा का भी निर्माण हो।