सिक्किम: ममता को लगा झटका, तृणमूल के प्रदेशाध्यक्ष और महासचिव का इस्तीफा

Daily news network Posted: 2017-06-19 15:47:01 IST Updated: 2017-06-19 15:47:01 IST
सिक्किम: ममता को लगा झटका, तृणमूल के प्रदेशाध्यक्ष और महासचिव का इस्तीफा
  • सिक्किम में तृणमूल कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष और महासचिव ने सोमवार को अपने अपने पदों से इस्तीफे दे दिए।

गंगटोक। अलग गोरखालैण्ड राज्य की मांग को लेकर दार्जिलिंग हिंसा की आग में जल रहा है। अलग राज्य की मांग के लेकर जारी आंदोलन की लपटें सिक्किम तक पहुंच गई है। सिक्किम में तृणमूल कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष और महासचिव ने सोमवार को अपने अपने पदों से इस्तीफे दे दिए। सूत्रों के मुताबिक पीटी लकसोम और पार्टी महासचिव टी.वांगचुंक लेपचा ने हिंसा और टीएमसी की ओर से अपनाए गए अनाहूत कदमों के विरोध में पार्टी से इस्तीफा दे दिया। अपने पत्र में सिक्किम तृणमूल कांग्रेस के महासचिव लेपचा ने लिखा, मैंने 21 दिसंबर 2013 को पूर्व मुख्यमंत्री पीटी लकसोम के साथ पार्टी ज्वाइन की थी। मैंने बतौर महासचिव और लकसोम ने प्रदेशाध्यक्ष के रूप में तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन की थी। तब से मैंने सिक्किम के लोगों के मसलों को उठाकर अपने कर्तव्य का पालन किया। अब तीन साल पूरे हो गए हैं और सिक्किम में विपक्षी दल के रूप में पूरे दिल से काम किया। लोपचे ने दार्जिलिंग में घटी कुछ घटनाओं की ओर से ध्यान दिलाया जिनमें कुछ लोगों को गोली मारी गई और उनकी हत्या की गई। 


लोपचे ने लिखा, मैंने राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन से हिल्स में शांति बहाली का अनुरोध किया था। साथ ही उन पुलिस वालों को निलंबित करने को कहा था जिन्होंने निर्दोष लोगों पर दार्जिलिंग में गोलियां चलाई। इसका कोई जवाब नहीं मिला। मैंने तृणमूल कांग्रेस से लोकसभा सांसद सुदीप बंदोपाध्याय से भी दार्जिलिंग के लोगों की लंबित मांग को लेकर अनुरोध किया था लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद मैंने दार्जिलिंग में तीन निर्दोष लोगों की हत्या के विरोध के रूप में पार्टी के महासचिव पद से इस्तीफा दिया। 


साथ ही लेपचा ने सीमा के दोनों ओर के लोगों से अनुरोध किया कि वे सिक्किम से सिलीगुड़ी जाने वाले वाहनों को बिना रोक टोक के जाने दें। साथ ही शांतिपूर्ण और असिंहक तरीके से आंदोलन चलाएं। उन्होंने दार्जिलिंग के एसपी से दार्जिलिंग,कोलिमपोंग और कुर्सियोंग हिल्स के विभिन्न मशहूर स्कूलों में पढऩे वाले छात्रों और बच्चों को पायलट एस्कोर्ट उपलब्ध कराने को कहा है क्योंकि सिक्किम में रह रहे उनके माता पिता चिंतित हैं। लेपचे ने लिखा, मैं नेशनलिस्ट सिक्किम यूनाइटेड ऑर्गेनाइजेशन के समन्वयक के रूप में काम करता रहूंग। साथ ही ज्ञान से क्रांति और सिक्किम में बदलाव और सकारात्मक कॉज के लिए यूनाइटेड रहूंगा।