फेसबुक पर मोदी के खिलाफ लिखने के कारण सिंगर के साथ हुआ ऐसा

Daily news network Posted: 2017-11-15 18:53:46 IST Updated: 2017-11-15 18:53:46 IST
फेसबुक पर मोदी के खिलाफ लिखने के कारण सिंगर के साथ हुआ ऐसा
  • रिवर फेस्टिवल नमामी बराक की तैयारियों के बीच एक राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया। नमामी बराक फेस्टिवल 18 नवंबर से 20 नवंबर तक चलेगा।

सिलचर।

रिवर फेस्टिवल नमामी बराक की तैयारियों के बीच एक राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया। नमामी बराक फेस्टिवल 18 नवंबर से 20 नवंबर तक चलेगा। बंगाल के सिंगर सुभा प्रसाद नंदी मजूमदार ने नामामी बराक के थीम सॉन्ग को गाया है। सोशल मीडिया पेज पर भाजपा के खिलाफ कमेंट्स के कारण उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया है। मजूमदार की जगह बॉलीवुड सिंगर जुबीन गर्ग को लाया गया है। बोरखोला से कांग्रेस की पूर्व विधायक रूमी नाथ ने बताया कि आधिकारिक रूप से रिलीज होने के पहले ही नमामी बराक का वीडियो लीक हो गया। यह वीडियो थीम सॉन्ग का पार्ट है, जिसे लाखों लोगों ने देखा है।

इस थीम सॉन्ग को सुभा प्रसाद नंदी मजूमदार ने गाया है लेकिन आधिकारिक रिलीज में वह फुटेज नहीं है। रूमी नाथ ने मजूमदार की ओर से गाई गई लाइनें हटाने पर नाखुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मजूमदार ने अपने सोशल मीडिया पेज पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ कुछ लिखा था, इस कारण उनकी ओर से गाई गई लाइनें हटा दी गई। उन्होंने बताया कि सुभा प्रसाद सीपीएम समर्थक है। यह सही नहीं है कि उनको सोशल मीडिया पेज पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ अपने विचार व्यक्त करने के कारण इस तरह की प्रताडऩा का सामना करना पड़े। नमामी बराक के बहिष्कार के मसले पर रूमी नाथ ने कहा कि वह खुशी से नमामी बराक का स्वागत करती है लेकिन वह इस फेस्टिवल के पीछे जो कंसेप्ट है, उसके खिलाफ है।

उन्होंने कहा, नमामी बराक का कंसेप्ट नदी की रक्षा है। बराक वैली की ज्यादातर आबादी, बोरखोला, सोनई, उधारबोंद व नदी तटों के पास रहती है। उन्हें हर साल भूमि के कटाव के कारण काफी नुकसान झेलना पड़ता है। नाथ ने आरोप लगाया कि सरकार फेस्टिवल के सेलिब्रेशन पर सिर्फ 20 लाख रुपए खर्च कर रही है। कांग्रेस की पूर्व विधायक ने दोहराया कि सरकार को फंड का कुछ हिस्सा बराक के नदी तटों की मरम्मत पर खर्च करना चाहिए। सरकार को बराक घाटी में जो सड़कों की हालत खराब है उस पर संज्ञन लेना चाहिए। एक अन्य वरिष्ठ कांग्रेस नेता मिसबाहुल इस्लाम लश्कर ने कहा कि वह नमामी बराक का खुले हाथों से स्वागत करते हैं

लेकिन वह इस पवित्र समारोह को राजनीतिक एंगल देने के खिलाफ है। लश्कर ने आरोप लगाया कि यह सांस्कृतिक इवेंट है और भाजपा को संस्कृति को राजनीति से दूर रखना चाहिए। सभी पृष्ठभूमि के लोगों को इस फेस्टिवल का पूरी तरह से आनंद लेने देना चाहिए। लश्कर ने कहा कि वह सुभा प्रसाद की लाइन को नमामी बराक के थीम सॉन्ग से हटाने की भाजपा की कार्रवाई की निंदा करते हैं। उनकी लाइन को सिर्फ इसलिए थीम सॉन्ग से हटा दिया क्योंकि वह अन्य राजनीतिक दल से हैं।