मेघालय में महिला को फेसबुक फ्रेंड ने लगाया 21 लाख का चूना, जानिए कैसे

Daily news network Posted: 2017-09-13 16:45:02 IST Updated: 2017-09-13 16:45:02 IST
मेघालय में महिला को फेसबुक फ्रेंड ने लगाया 21 लाख का चूना, जानिए कैसे
  • मेघालय और दिल्ली पुनलिस की संयुक्त टीम ने 21 लाख रुपए के फेसबुक फ्रॉड के केस में सात लोगों को गिरफ्तार किया

शिलॉन्ग।

मेघालय और दिल्ली पुनलिस की संयुक्त टीम ने 21 लाख रुपए के फेसबुक फ्रॉड के केस में सात लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से 6 नाइजीरिया के नागरिक हैं। मेघालय के साइबर क्राइम पुलिस थाने के दो अधिकारियों की टीम ने दिल्ली पुलिस की मदद से दिल्ली और आसपास के इलाकों में कई जगहों पर छापे मारे। इसके बाद सात लोगों को गिरफ्तार किया गया। इनमें दो महिलाएं शामिल है। बताया जा रहा है कि एक महिला नागालैंड की है।


मेघालय के एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस(सीआईडी)बी.एल.बुआम ने कहा कि हाल ही में शिलॉन्

 ग में एक महिला से फेसबुक फ्रेंड ने 21 लाख रुपए ठग लिए। शिकायत के मुताबिक नाइजेरियन फ्रेंड ने महिला को बताया कि वह उससे मिलने के लिए भारत आया हुआ है लेकिन उसे दिल्ली एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग के अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास बड़ी संख्या में डॉलर्स और कई महंगे गिफ्ट थे इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया।


बुआम के मुताबिक शिकायतकर्ता को नाइजेरियन फ्रेंड ने कहा कि वह उसे रिहा कराने के लिए कस्टम अधिकारियों को पैसे दे। महिला को दया आ गई और उसने कई किश्तों में पैसे दे दिए। बाद में उसे महसूस हुआ कि उसका कथित दोस्त उसे 21 लाख रुपए का चूना लगा चुका है। साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन,सीआईडी हेडक्वाटर्स, शिलॉन्ग ने आईपीसी की धारा 420 के तहत केस दर्ज किया। साथ ही आईटी एक्ट की धारा 66 डी के तहत भी मामला दर्ज किया। सीआईडी अधिकारी क्लाउडिया ए.लिंग्वा ने बताया कि हमने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। सभी को साइबर फ्रॉड के मामले में गिरफ्तार किया गया है।


इन्होंने एक महिला से 21 लाख रुपए की ठगी की। आरोपियों के पास से 50 एटीम कार्ड, 50 सिम कार्ड, 20 मोबाइल फोन, 6 लैपटॉप, 10 पैन ड्राइवर और कई इनक्रिमिनेटिंग दस्तावेज जब्त किए गए हैं। आरोपियों की पहचान नाइजीरिया के अगोडो चिनेडु, ओरिया फ्रांसिस, जॉन ओनेकवेली ओफोडिले, तोह बी जॉरजर्स, अंगेला ओमोरुयी, गुयेनियन बैरी अमादोउ उर्फ ओडिंगा के रूप में हुई है। एक महिला ने खुद की पहचान रोस सेखोसे के रूप में बताई है। वह नागालैंड की रहने वाली है।


बुआम ने कहा,जांच के दौरान मिले सबूतों से नई दिल्ली में बैठे कुछ लोगों के लिंक मिले। 8 सितंबर को एक टीम दिल्ली भेजी गई। नई दिल्ली में जांच की गई। आरोपियों को जांच पूरी होने और कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद आगे की कार्रवाई के लिए शिलॉन्ग लाया जाएगा। एसएसपी(सीआईडी) क्लाउडिया ने कहा कि पीडि़ता और फ्रॉडस्टर जो खुद को इंग्लैंड का रहने वाला बताता था, फेसबुक पर तीन महीने से चैटिंग कर रहे थे। 31 जुलाई को नाइजेरिन फ्रॉडस्टर ने पीडि़ता से मोबाइल के जरिए संपर्क किया और कहा कि वह इंग्लैंड से पैसा और उपहार लेकर भारत आया है। उसने दिल्ली में लैंड किया है।


फ्रॉडस्टर ने दावा किया है कि उसे दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ लिया गया है। अगले चार दिन के लिए पीडि़ता को पैसे जमा करान के लिए कहा गया। उसने विभिन्न खातों में 21 लाख रुपए जमा करा दिए लेकिन जब पीडि़ता को और पैसे देने के लिए कहा गया तो उसने उसने कहा कि अब उसके पास पैसे नहीं है। जल्द ही पीडि़ता को महसूस हुआ कि उस शख्स ने अपना फोन स्वीच ऑफ कर दिया है और उस तक नहीं पहुंचा जा सकता। इसके बाद पीडि़ता ने पुलिस से संपर्क किया।