मुश्किल में फंसे मोदी सरकार ने ये नेता, आखिर कैसे निकालेंगे रास्ता

Daily news network Posted: 2017-12-08 13:20:08 IST Updated: 2017-12-08 13:20:08 IST
मुश्किल में फंसे मोदी सरकार ने ये नेता, आखिर कैसे निकालेंगे रास्ता
  • सोनोवाल सरकार को एक के बाद एक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

गुवाहाटी।

सोनोवाल सरकार को एक के बाद एक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। दिसपुर विधानसभा क्षेत्र के तहत सोनापुर इलाके में स्थित आमसांग संरक्षित वनांचल में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटाओ अभियान के बाद सरकार के सामने उन लोगों को बसाने की नई चुनौती पैदा हो गई है, क्योंकि वहां से हटाए गए लोगों को डिमोरिया और टेघेरिया अंचल में बसाने की वन मंत्री की घोषणा के बाद सोनापुर इलाके के लोगों में सरकार के खिलाफ भारी रोष है।


आमरि कार्बी संगठन के नेतृत्व में कुल छह जातीय संगठनों ने सरकार के फैसले के विरोध में विरोध जुलूस निकाला। इस संगठनों ने आमसांग से उजड़े परिवारों को सोनापुर के डिमोरिया-टेघेरिया इलाके में पुनर्वास की व्यवस्था करने की घोषणा के विरोध में जुलूस निकाला। जुलूस में शामिल लोगों ने सोनापुर इलाके में स्थापित विभिन्न उद्योगों से हो रहे प्रदूषण के कारण इन उद्योगों को भी वहां से हटाने की मांग की है।


जुलूसकर्ताओं ने इस दौरान वन मंत्री तथा सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए। जुलूस में शामिल आमरि-कार्बी के एक नेता ने बताया कि आमसांग से उजाड़े गए लोगों को डिमोरिया-टेघेरिया आदि इलाकों में बसने नहीं दिया जाएगा। नेता ने कहा कि उजड़े लोगों को सरकार के चाने पर भी सोनापुर अंचल में बसाने नहीं देंगे। इसके लिए चाहे सोनापुरवासियों को कुछ भी कीमत चुकानी पड़े, वे उसके लिए तैयार हैं।