असम की भौगोलिक अखंडता के साथ छेड़छाड़ नहीं: सोनोवाल

Daily news network Posted: 2017-11-14 10:38:25 IST Updated: 2017-11-14 10:38:25 IST
असम की भौगोलिक अखंडता के साथ छेड़छाड़ नहीं: सोनोवाल
  • नगा शांति समझौते को लेकर गरमाई सियासत के बीच मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने स्पष्ट किया है कि राज्य की भौगोलिक अखंडता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

गुवाहाटी।

नगा शांति समझौते को लेकर गरमाई सियासत के बीच मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने स्पष्ट किया है कि राज्य की भौगोलिक अखंडता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा। नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री के राजनाथ सिंह के साथ बैठक के दौरान सोनोवाल ने नगा फेमवर्क और एनआरसी अद्यतन पर विस्तृत चर्चा की।



बैठक के बाद सोनोवाल ने कहा कि असम के मानचित्र में किसी भी कारण किसी तरह का बदलाव नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि असम की अखंडता सिर्फ  भौगोलि दृष्टि से नहीं, बल्कि यह राज्य के लोगों के सम्मान से जुड़ा विषय है। उन्होंने कहा कि राज्य में जारी राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) अद्यतन काम को एक सांप्रयादिक शक्ति बाधित करना चाहती है। ऐसी शक्ति के खिलाफ कठोर पहल की जाएगी। किसी भी सांप्रयादिक शक्ति को सिर उठाने नहीं दिया जाएगा।


मुख्यमंत्री का यह बयान उस वक्त आया है जब राज्य में एनआरसी अद्यतन कार्य को लेकर विपक्षी कांग्रेस सहित अन्य कुछ दल संगठन एनआरसी के बहाने भारतीय नागरिकों पर अत्याचार करने का आरोप लगा रहे हैं। सोनोवाल ने कहा कि एनआरसी अद्यतन कार्य के जरिए असली नागरिकों की शिनाख्त की प्रक्रिया जारी है और इसको लेकर केंद्र तथा राज्य सरकार ने मजबूत पहल की है।


उन्होंने दोहराया कि किसी भी भारतीय नागरिक को एनआरसी के मसौदा सूची से बाहर नहीं होने दिया जाएगा। सभी भारतीय नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी। इस दौरान सोनोवाल ने गृह मंत्री को बताया कि राज्य सरकार एनआरसी के मसौदे को जारी करने की बाद की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने यह भी बताया कि एनआरसी से असली भारतीय नागरिकों का नाम नदारत न हो उस पर भी विशेष ध्यान दिया गया है।