मणिपुर: कथित फर्जी एनकाउंटर्स के 62 मामलों की जांच करेगी सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

Daily news network Posted: 2017-07-14 13:18:42 IST Updated: 2017-07-14 13:18:42 IST
मणिपुर: कथित फर्जी एनकाउंटर्स के 62 मामलों की जांच करेगी सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट का आदेश
  • सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर में कथित फर्जी मुठभेड़ के 62 मामलों की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा है।

नई दिल्ली/इंफाल। मणिपुर में हुई कथित फर्जी मुठभेड़ों पर सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर में कथित फर्जी मुठभेड़ के 62 मामलों की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा है। 1528 कथित फर्जी मुठभेड़ों से संबंधित मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस एम.लोकुर और जस्टिस यूयू ललित ने सीबीआई को फर्जी मुठभेड़ के 62 मामलों की जांच का निर्देश दिया। इन मुठभेड़ों को सुरक्षा बलों व पुलिस ने अंजाम दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को 28 जनवरी तक अनुपालन रिपोर्ट सौंपने को कहा है। 62 में से 28 मामले ऐसे हैं जिसमें सेना कथित रूप से मुजरिम है।

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को मामलों की जांच के लिए एसआईटी गठित करने को कहा है। साथ ही कोर्ट ने सीबीआई को निर्देश दिया है कि वीकली बेसिस पर सुप्रीम कोर्ट को अपडेट करें। मामले पर अगली सुनवाई 28 जनवरी को होगी। आपको बता दें कि मणिपुर आम्र्ड फोर्स स्पेशल पावर एक्ट के दायरे में है। याचिकाकर्ताओं का आरोप है कि सेना व सुरक्षा बलों ने मणिपुर में कुल 1528 फर्जी मुठभेड़ों को अंजाम दिया। उनका दावा है कि आम्र्ड फोर्स स्पेशल पावर एक्ट की आड़ में ये हत्याएं की गई। पिछले साल जुलाई में सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर में कथित फर्जी मुठभेड़ों में हुई हत्याओं की विस्तृत जांच का निर्देश दिया था। 


कोर्ट ने कहा था कि अगर अफस्पा लगा है और इलाका भी डिस्टर्ब एरिया के तहत क्लासीफाइड भी है तो भी सेना या पुलिस ज्यादा फोर्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था क्रिमिनल कोर्ट को एनकाउंटर मामलों के ट्रायल का अधिकार है। सप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सेना और पुलिस के ज्यादा फोर्स और एनकाउंटरों की स्वततंत्र जांच होनी चाहिए। कौन सी एजेंसी ये जांच करेगी, ये कोर्ट बाद में तय करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मणिपुर के 1528 एनकाउंटरों की जांच होनी चाहिए।