डोकलाम सहित इन मुद्दों पर भी है भारत-चीन के बीच 'झगड़ा'

Daily news network Posted: 2017-07-16 17:37:03 IST Updated: 2017-07-16 17:37:03 IST
डोकलाम सहित इन मुद्दों पर भी है भारत-चीन के बीच 'झगड़ा'
  • सिक्किम के डोकलाम क्षेत्र (दोंगलांग) में चीन के सड़क बनाने की कोशिश का विरोध करने पर शुरू भारत और चीन के बीच तनातनी और तल्‍खी का यह पहला मामला नहीं है।

गंगटोक।

सिक्किम के डोकलाम क्षेत्र (दोंगलांग) में चीन के सड़क बनाने की कोशिश का विरोध करने पर शुरू भारत और चीन के बीच तनातनी और तल्‍खी का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी दोनों देश कई मसलों को लेकर आमने-सामने आ चुके हैं।



अलीगढ़ मुस्‍लिम यूनिवर्सिटी में पॉलिटिकल साइंस के प्रोफेसर अब्‍दुल रहीम की मानें तो दरअसल, अब चीन भारत की तरक्‍की और दूसरे देशों से बढ़ती दोस्‍ती के कारण चिढ़ रहा है।



रहीम के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार तमाम देशों से दोस्‍ती बढ़ा रहे हैं। इन दिनों अमेरिका भी भारत के नजदीक है। भारत लगातार तिब्‍बती धर्मगुरु दलाईलामा को संरक्षण दे रहा है। इससे चीन बौखलाया हुआ है। वह सीमा विवाद के जरिए अपनी खुन्‍नस निकालना चाहता है।



तो आइए जानते हैं दोनों देशों के बीच तनातनी की असली वजह, जो लंबे समय से सिरदर्द बने हुए हैं।



बॉर्डर

भारत-चीन के बीच लगभग चार हजार किमी की सीमा है जो कि निर्धारित नहीं है। इसे LAC (लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल) कहते हैं। भारत और चीन के सैनिकों का जहां तक कब्जा है वही नियंत्रण रेखा है। जो कि 1914 में हेनरी मैकमोहन ने तय की थी, लेकिन इसे भी चीन नहीं मानता और इसीलिए अक्सर वो घुसपैठ की कोशिश करता रहता है।



तिब्बत

इसे भारतीय मान्यता से चीन खफा रहता है। दलाई लामा का समर्थन करने की वजह से चीन भारत से चिढ़ा रहता है।



अरुणाचल प्रदेश

चीन अरुणाचल पर अपना दावा जताता है और इसीलिए अरुणाचल को विवादित बताने के लिए ही चीन वहां के निवासियों को स्टेपल वीजा देता है, जिसका भारत विरोध करता है।



अक्साई चिन रोड

लद्दाख में इसे बनाकर चीन ने नया विवाद खड़ा किया।



चीन का जम्मू-कश्मीर को भारत का अंग मानने में आनाकानी करना।



पीओके को पाकिस्तान का भाग मानने में चीन को कोई आपत्ति न होना।



पीओके में चीनी गतिविधियों में इजाफा। 



हाल ही में चीन ने यहां 46 बिलियन डॉलर की लागत का इकनॉमिक कॉरिडोर प्रोजेक्ट शुरू किया है जिससे भारत खुश नहीं है।



हिंद महासागर में तेज हुई चीनी गतिविधि भी दोनों देशों के बीच तल्‍खी का कारण है।



साउथ चाइना सी में प्रभुत्व कायम करने की चीनी कोशिश।



ब्रह्मपुत्र नदी

दरअसल यहां बांध बनाकर चीन सारा पानी अपनी ओर मोड़ रहा है, जिसका भारत विरोध कर रहा है।