मेघालय में भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 7 हुई

Daily news network Posted: 2017-06-19 11:38:16 IST Updated: 2017-06-19 11:41:38 IST
मेघालय में भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 7 हुई
  • मेघालय में भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन में मृतकों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। रविवार को अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राज्य के कई हिस्से में मूसलाधार बारिश के कारण भूस्खलन हुआ।

शिलॉन्ग। मेघालय में भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन में मृतकों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। रविवार को अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राज्य के कई हिस्से में मूसलाधार बारिश के कारण भूस्खलन हुआ। इससे सार्वजनिक संपत्तियों को काफी क्षति पहुंची है। राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल(एसडीआरएफ) के अधिकारी मेरिनपोले संगमा ने बताया कि री-भोई जिले के थारिया इलाके में लापता हुई महिला का शव रविवार को मलबे से मिलने के बाद मरने वालों की संख्या 7 हो गई है। 


आपको बता दें कि शनिवार को बड़े पैमाने पर हुए भूस्खलन के बाद एसडीआरएफ कर्मियों ने 5 शव बरामद किए थे जबकि अन्य 9 घायल थे। पीडि़तों में ज्यादातर मजदूर थे। एक अन्य हादसे में पूर्व खासी पहाड़ी जिले के लाड किनटोंग इलाके में भूस्खलन से आइरिशा सोहटुन नाम की एक बच्ची की मौत हो गई। आइरिशा सोहटुन को कीचड़ से निकाला गया लेकिन स्वास्थ्य केन्द्र में उसे मृत घोषित कर दिया गया। जांच के बाद आइरिशा का शव परिजनों को सौंप दिया गया। सोहरा सबडिवीजन की एमसीएसस जेएम उम्दोर ने शव के पोस्टमार्टम का आदेश दिया था। 


गौरतलब है कि शनिवार को थारिया में भूस्खलन के बाद पांच लोगों की मौत हो गई थी जबकि दो महिलाएं लापता हो गई थी। भूस्खलन शनिवार सुबह 5 बजे हुआ था। दोपहर 12 बजे लापता महिला का शव मिलने के बाद एसडीआरएफ ने राहत और बचाव का काम रोक दिया। दूसरी महिला का शव शनिवार शाम 6.30 बजे बरामद हुआ था। 



भूस्खलन से हुई मौतों पर शोक प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने इंडस्ट्रियल यूनिटों की सेफ्टी ऑडिटिंग की तुरंत जांच का आदेश दिया है ताकि सुरक्षा जरूरतों के मापदण्डों का पालन सुनिश्चित हो। राज्य सरकार पहले ही आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को नोटिफाइ कर चुका है ताकि आपदाओं के दौरान जोखिम कम हो और प्रभावी डिजास्टर रेस्पांस सिस्टम हो।