पारंपरिक विचारधाराओं से होगा राष्ट्र निर्माण : पेमा खांडू

Daily news network Posted: 2018-01-14 14:10:08 IST Updated: 2018-01-14 14:10:08 IST
  • अरूणाचलज प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने नालंदा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय स्टेट एंड सोशल ऑडर इन धर्म-धम्म सम्मेलन के समापन के दौरान विद्वानों को संबोधित करते हुए कहा

अरूणाचलज प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने नालंदा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय स्टेट एंड सोशल ऑडर इन धर्म-धम्म सम्मेलन के समापन के दौरान विद्वानों को संबोधित करते हुए कहा कि बौद्ध धर्म के पारंपरिक विचारधाराओं को जोड़कर भाईचारे सद्भावना व समरसता का निर्माण किया जाए तभी एक अच्छे राष्ट्र का निर्माण किया जा सकता है। आज के परिवेश में विश्व में बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों की संख्या काफी बढ़ी है। उन्होंने कहा कि बिहार एक अच्छा प्रदेश है। बिहार बौद्ध धर्म मानने वाले लोगों के लिए महत्वपूर्ण स्थान है।



साथ ही उन्होंने कहा कि धर्म-धम्म सम्मेलन में आना मेरे लिए गौरव की बात रही है। इस सम्मेलन में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा की है आैर कहा है कि उन्होंने अरुणाचल प्रदेश राज्य में बहुत ही अच्छा काम किया है। जिससे लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी है। उन्होंने नालंदा यूनिवर्सिटी के कुलपति सुनैना आैर वहां के छात्राें को अरुणाचल प्रदेश आने का निमंत्रण भी दिया।


सीएम ने कहा कि पुराने नालंदा विश्वविद्यालय  का पुनः निर्माण किया गया है। जो पूरे देश के लिए अनुकरणीय है। इससे एक दूसरे देशों से आपस में मित्रता और बढ़ेगी। सम्मेलन में भाग ले रहे स्वामी आत्म प्रिय नंदन जी ने कहा कि धर्म-धम्म सम्मेलन से ही धर्म का समाधान किया जा सकता है। स्वामी विवेकानंद ने भी धर्म के साथ जुड़कर ही लोगों के बीच आपस में प्रेम,  भाईचारे और शांति का माहौल बनाने का काम किए थे। स्वामी ने कहा कि जो लोग धर्म के साथ चलते हैं कभी किसी का अनादर, गलत विचार पनपने नहीं देता है। इसलिए सभी मनुष्य को धर्म के प्रति आस्था और विश्वास रखना चाहिए।



बता दें क इस सम्मेलन में 12 से अधिक 36 एशियन देशों से विभिन्न विषयों के प्रतिनिधियों ने भाग लेकर धर्म धम्म के साथ सभी धर्मों को जोड़कर और कैसे बढ़ाया जाए। इस पर लोगों ने विचार प्रकट किया।