पॉल लिंगदोह का दावा,मेघालय में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी यूडीपी

Daily news network Posted: 2017-11-15 17:26:44 IST Updated: 2017-11-15 17:26:44 IST
पॉल लिंगदोह का दावा,मेघालय में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी यूडीपी
  • मेघालय में अगले साल फरवरी-मार्च में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है। मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल मार्च में समाप्त हो रहा है।

मेघालय में अगले साल फरवरी-मार्च में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है। मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल मार्च में समाप्त हो रहा है। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए सभी दल अभी से तैयारियों में लगे हुए है। यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी(यूडीपी) का दावा है कि वह विधानसभा चुनाव के बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेगी। यूडीपी के कार्यकारी अध्यक्ष पॉल लिंगदोह ने मंगलवार को कहा,हमें पूरा विश्वास है कि चुनावों के बाद हम सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेंगे। उन्होंने तीन राजनीतिक दलों एनपीपी, पीडीएफ और एनसीपी को अलग हुए दल करार दिया। लिंगदोह ने कहा कि इन तीनों राजनीतिक दलों का उदय कांग्रेस से हुआ है।

लिंगदोह ने कहा कि वे मुकुल संगमा ग्रुप के पृथकतावादी गुट हो सकते हैं। यूडीपी के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी को अन्य राजनीतिक दलों से कोई खतरा नहीं है क्योंकि ये सभी चुनावों के बाद शक्तिहीन हो जाएंगे। लिंगदोह ने कहा कि इस चुनाव में पार्टी का ट्रंप कार्ड पोटेंशियल डार्क होर्सेज कैंडिडेट्स होंगे। हालांकि अन्य राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए पार्टी के टॉप लीडर्स पर निर्भर होंगे। यूडीपी और एचएसपीडीपी के गठबंधन पर लिंगदोह ने कहा कि 1980 के दशक के बाद पहली बार दोनों दल साथ आए हैं। हमने निश्चित मिशन के साथ काम करने का फैसला किया है।

आपको बता दें कि 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। कांग्रेस ने एनसीपी व कुछ निर्दलीय विधायकों के साथ मिलकर मुकुल संगमा के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनाई थी। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 29 सीटें मिली थी। 13 निर्दलीय, यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी(मेघालय) को 8, हिल स्टेट पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी को 4, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी को 2, नेशनल पीपुल्स पाटर को 2, गारो नेशनल काउंसिल व नॉर्थ ईस्ट सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी को एक-एक सीट मिली थी। उधर मुख्यमंत्री मुकुल संगमा की कार्यप्रणाली से नाखुश मेघालय में सत्तारुढ़ कांग्रेस के करीब दो वरिष्ठ नेताओं ने मंगलवार को खुले रूप से कहा कि वे राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी छोड़ देंगे। पूर्व उपमुुख्यमंत्री रॉवेन लिंगदोह और पूर्व कैबिनेट मंत्री प्रेस्टोन टी. जैसे वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस छोडऩे का फैसला किया है। रॉवेन लिंगदोह ने कहा, मेरा नेशनल पीपुल्स पार्टी(एनपीपी) में शामिल होने का इरादा है।

पछले विधानसभा चुनाव में मैं कांग्रेस के टिकट पर निर्वाचित हुआ था। कांग्रेस ने मुझे और लोगों को धोखा दिया। उप मुख्यमंत्री रॉवेन लिंगदोह ने दावा किया कि उनके व उनके दोस्त की मुख्यमंत्री ने उपेक्षा की। लिंगदोह ने कहा कि वह कांग्रेस से इस्तीफा देंगे और जिस क्षण विधानसभा चुनाव की घोषणा वह एनपीपी में शामिल होंगे। प्रेस्टोन टी. ने कहा, मुख्यमंत्री एक नेता के रूप में जिस तरह से काम कर रहे हैं उससे मैं खुश नहीं हूं। मैं जल्द ही इस्तीफा दूंगा मौजूदा सरकार के तहत आखिरी सत्र के पहले इस्तीफा दे सकता हूं। मौजूदा विधानसभा कार्यकाल अगले साल 6 मार्च को खत्म हो रहा है। कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि तीन और विधायक अगला विधानसभा चुनाव पार्टी के टिकट पर नहीं लड़ेंगे। लिंगदोह, प्रेस्टोन व अन्य तीन विधायकों को इस सा सरकार व पार्टी में उनके पदों से हटा दिया गया था। राज्य भाजपा के नेताओं का कहना है कि पार्टी हर उस शख्स का स्वागत करती है जो राज्य के विकास के लिए काम करने का इच्छुक है। पार्टी मेघालय से भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़कर फेंकने के लिए तैयार है।