Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

यूपी में भाजपा को तीन चौथाई बहुमत, टूटा 37 साल पुराना कांग्रेस का रिकॉर्ड

Patrika news network Posted: 2017-03-11 12:15:25 IST Updated: 2017-03-11 19:03:23 IST
यूपी में भाजपा को तीन चौथाई बहुमत, टूटा 37 साल पुराना कांग्रेस का रिकॉर्ड
  • यूपी के विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जबरदस्त लहर चली है। यहां भाजपा को तीन चौथाई बहुमत मिला है। चुनावी नतीजों से स्पष्ट है कि जनता ने न सिर्फ अखिलेश यादव के काम बोलता है को नकार दिया है बल्कि यूपी के लड़कों अखिलेश-राहुल गांधी के नारे यूपी को ये साथ पसंद है को भी खारिज कर दिया है।

यूपी के विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जबरदस्त लहर चली है। यहां भाजपा को तीन चौथाई बहुमत मिला है। चुनावी नतीजों से स्पष्ट है कि जनता ने न सिर्फ अखिलेश यादव के काम बोलता है को नकार दिया है बल्कि यूपी के लड़कों अखिलेश-राहुल गांधी के नारे यूपी को ये साथ पसंद है को भी खारिज कर दिया है। 

राज्य की कुल 403 सीटों में से भाजपा और उसके सहयोगी दलों को 324,कांग्रेस-सपा गठबंधन को 54 और बसपा 19 सीटें मिली है जबकि अन्य के खाते में 5 सीटें गई है। प्रचंड बहुमत के साथ जीत दर्ज करने वाली भाजपा ने 37 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है। 1980 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को 309 सीटें मिली थी। उस वक्त यूपी में कुल 425 विधानसभा सीटें थी। खास बात यह थी कि भाजपा को महज 11 सीटें मिली थी। दूसरी सबसे बड़ी पार्टी थी चौधरी चरण सिंह की जनता पार्टी सेक्युलर(जेएनपी सेक्युर)। उन्हें कुल 59 सीटें मिली थी। 

राम लहर से बड़ी है मोदी लहर 

भाजपा ने इन चुनावों में 1991 के विधानसभा चुनाव का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है। राम मंदिर आंदोलन के वक्त जनता के अपार समर्थन के सहारे यूपी में सरकार बनाने वाली भाजपा को उस वक्त 221 सीटें मिली थी। कांग्रेस को महज 46 सीटें मिली थी। उस वक्त भाजपा को 31.76 फीसदी वोट मिले थे। 1991 के चुनाव कुल 419 सीटों पर हुए थे। भाजपा यूपी में 1985 से चुनाव लड़ रही है। पहले चुनाव में उसने यूपी में 16 सीटें जीती थी। 

लोकसभा चुनाव के बराबर मिले वोट

भाजपा को 2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 42 फीसदी वोट मिले हैं। भाजपा ने इस लहर को कायम रखा है। उसे विधानसभा चुनाव में भी 42 फीसदी के करीब वोट मिले हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में वह 328 सीटों पर आगे थी।