सीमा विवाद में चीन कर रहा बचकानी हरकतें, भारत का रवैया अनुभवी ताकतवर देश जैसा

Daily news network Posted: 2017-08-12 14:39:01 IST Updated: 2017-08-12 14:39:01 IST
सीमा विवाद में चीन कर रहा बचकानी हरकतें, भारत का रवैया अनुभवी ताकतवर देश जैसा
  • एक वरिष्ठ अमरीकी विशेषज्ञ ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद में भारत का रवैया एक अनुभवी ताकतवर देश जैसा रहा है।

वॉशिंगटन। एक वरिष्ठ अमरीकी विशेषज्ञ ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद में भारत का रवैया एक अनुभवी ताकतवर देश जैसा रहा है। वहीं इस मामले में चीन बचकानी हरकतें कर रहा है। आपको बता दें कि 16 जून से सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद चल रहा है। भारत का कहना है कि बातचीत तभी हो सकती है जब दोनों देशों की सेनाएं पीछे हटें। वहीं चीन का कहना है कि भारत उसकी सीमा में दाखिल हुआ है,लिहाजा उसे पीछे हटना होगा। डोकलाम विवाद को लेकर चीन कई बार भारत को जंग की धमकियां दे चुका है।


यूएस नेवल वॉर कॉलेज के डिफेंस स्ट्रैट्जी के प्रोफेसर जेम्स आर.होम्स ने कहा कि पूरे विवाद में भारत का रूख एकदम ठीक है। भारत की सेनाएं न तो विवादित इलाके से वापस आ रही है और न ही वह चीन की धमकियों का कोई जवाब दे रहा है। भारत एक मैच्योर पावर की तरह बर्ताव कर रहा है और चीन किसी नासमझ की तरह बयानबाजी कर रहा है। इसे अजीब ही कहा जाएगा कि चीन अपने शक्तिशाली पड़ोसी देश के साथ सीमा विवाद में उलझा है।अगर चीन समुद्र में अपनी ताकत बढ़ाना भी चाहता है तो उसे अपनी सीमाएं सुरक्षित करनी होंगी लेकिन इसका ये कत

 ई मतलब नहीं है कि वह अपने पड़ोसियों की सीमा में दखलअंदाजी करें।


भारत-चीन सीमा विवाद पर अमरीका चुप क्यों है, इस सवाल पर होम्स ने कहा, हो सकता है कि नरेन्द्र मोदी और उनके सलाहकार फिलहाल नहीं चाहते कि यूएस इस विवाद में शामिल हो। हालांकि इस बात की संभावना है कि विवाद बढऩे पर अमरीका, भारत का ही सपोर्ट करेगा। डोकलाम विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ था जब भारतीय सैनिकों ने डोकलाम इलाके में चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। हालांकि चीन का कहना है कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा है। इस एरिया का भारत में नाम डोका-ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है। भारत-चीन की जम्मू कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3488 किलोमीटर लंबी सीमा है। इसका 220 किलोमीटर हिस्सा सिक्किम में आता है। नई दिल्ली ने चीन से कहा है कि डोकलाम में सड़क बनाने से इलाके की मौजूदा स्थिति में अहम बदलाव आएगा। भारत की सुरक्षा के लिए ये गंभीर चिंता का विषय है। रोड लिंक से चीन को भारत पर एक बड़ी मिलिट्री एडवान्टेज हासिल होगी। इससे नॉर्थ ईस्टर्न स्टेट्स को भारत से जोडऩे वाल कॉरिडोर चीन की जद में आ जाएगा।