अब एटीएम का इस्तेमाल हो जाएगा महंगा, ये है बड़ा कारण

Daily news network Posted: 2017-06-16 13:09:19 IST Updated: 2017-06-16 13:09:19 IST
अब एटीएम का इस्तेमाल हो जाएगा महंगा, ये है बड़ा कारण
  • एक जुलाई से देश में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू हो रहा है। इसका असर बैंकिंग सेवाओं पर भी होगा।

नई दिल्ली।

एक जुलाई से देश में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू हो रहा है। इसका असर बैंकिंग सेवाओं पर भी होगा। हम आपको बता रहे हैं कि एक जुलाई से कौन सी बैंकिंग सेवाएं महंगी हो जाएंगी। एक जुलाई से आपके लिए एटीएम से पैसा निकालना महंगा हो जाएगा। 


जीएसटी के तहत एक जुलाई से एटीएम ट्रांजैक्शन चार्ज पर 18 फीसदी टैक्स लगेगा, जो कि अब तक 15 फीसदी था। मौजूदा समय में अपने बैंक के एटीएम से महीने में पांच ट्रांजेक्शन और दूसरे बैंक के एटीएम से तीन ट्रांजैक्शन फ्री हैं। हालांकि देश के छह बड़े शहरों में अपने बैंक के एटीएम से तीन ट्रांजैक्शन फ्री हैं। इससे अधिक ट्रांजैक्शन करने पर प्रति ट्रांजेक्शन बीस रुपए और सर्विस टैक्स देना होता है। 


एक जुलाई से आपके लिए बैंक से हर तरह का लोन महंगा हो जाएगा। बैंक हर तरह के लोन के लिए लोन प्रोसेसिंग फीस लेते हैं। लोन प्रोसेसिंग फीस में सर्विस टैक्स भी शामिल है। ऐसे में टैक्स अब 15 फीसदी से बढ़कर 18 फीसदी लगेगा। कई बैंकों ने होम ब्रांच से एक माह में फ्री कैश ट्रांसजेक्शन की लिमिट तय कर दी है। भारतीय स्टेट बैंक में यह लिमिट 3 है। होम ब्रांच में एक माह में तीन से अधिक बार कैश लेन-देन करने पर प्रति ट्रांजेक्शन पचास रुपए और सर्विस टैक्स लिया जाता है। ऐसे अब आपको प्रति ट्रांजेक्शन अधिक पैसा देना होगा। 


मौजूदा समय में बैंक ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के लिए रकम के आधार पर 2 से 5 रुपए प्रति ट्रांजेक्शन चार्ज करते हैं। एक जुलाई से आपको ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के लिए अधिक पैसे देने होंगे। बैंक चेक जारी करने के बदले 50 या फिर 100 रुपए चार्ज करते हैं। ऐसे में एक जुलाई से अगर आप बैंक से चेक इश्यू कराते हैं तो इसके लिए आपको अधिक पैसे देने होंगे।