मणिपुर की अंतरराष्ट्रीय बॉक्सर के साथ हुआ फ्रॉड, जानिए पूरा मामला

Daily news network Posted: 2017-09-04 19:28:18 IST Updated: 2017-09-04 19:28:18 IST
मणिपुर की अंतरराष्ट्रीय बॉक्सर के साथ हुआ फ्रॉड, जानिए पूरा मामला
  • मणि‍पुर की रहने वाली बॉक्सर और गोल्ड मेडलिस्ट खोई चानू प‍िछले 12 दिन से आगरा के आशा ज्योति केंद्र में है। उसके पिता ने भी उसे लेने आने से इनकार कर दिया है।

आगरा।

मणि‍पुर की रहने वाली बॉक्सर और गोल्ड मेडलिस्ट खोई चानू प‍िछले 12 दिन से आगरा के आशा ज्योति केंद्र में है। उसके पिता ने भी उसे लेने आने से इनकार कर दिया है।



आरोप है कि उसकी दोस्त ने उसे मणिपुर से चैन्नई ले जाने के बहाने बुलाया और उससे पैसे, फोन व पासपोर्ट ले लिया और दूसरे डिब्बे में सीट का बहाना कर के भाग गई। 



रेलवे पुलिस ने उसे चाइल्ड लाइन के हवाले कर दिया, जहां से अब वह आशा ज्योति केंद्र में है।



खोई चानू अपने घर जाना चाहती है। आशा ज्योति केंद्र प्रभारी ने चानू के पिता से बात की तो उन्होंने चानू को लेने से मना कर दिया, क्योंकि कुछ दिन पहले उसने तीसरी शादी करने पर उनकी जबरदस्त पिटाई की थी।



चानू ने बताया, 'मां के बाद पिता ही उसका सहारा थे, लेकिन वो भी दूसरी महिलाओं के चक्कर में आ गए। करीब एक साल पहले उसके पिता ने तीसरी शादी कर ली। नई मां उसके साथ अच्छा बर्ताव नहीं करती थी। 



पिता भी मां का पक्ष लेते थे। एक दिन मां का पक्ष लेने पर उसने पिता से गुस्सा जताया तो पिता उसे ही डांटने लगे। इसी कारण उसने पिता की तीसरी शादी का गुस्सा उतारते हुए उनकी पिटाई कर दी।'



मणिपुर की खोई चानू 11 साल की उम्र में नेशनल बॉक्सिंग में गोल्ड जीत चुकी है। उसे अक्टूबर में अमेरिका में बॉक्सिंग की प्रतियोगिता में हिस्सा लेने जाना है।



उसने बताया, 20 दिन पहले हरियाणा में बास्केटबॉल खिलाड़ी और उसकी दोस्त तनु से उसकी बात हुई थी। तनु से उसकी दोस्ती प्रतियोगिताओं के दौरान हुई थी।



खोई चीनू ने बताया, उसने तनु को बातों बातों में बताया था कि उसके पापा ने तीसरी शादी कर ली है। उसकी मां उसको परेशान करती है। इसलिए वह अपनी बहन के पास चैन्नई जाने वाली है, लेकिन यहां से उसका टिकट नहीं हो पा रहा है।



तनु ने उससे कहा कि तुम दिल्ली आ जाओ। यहां से मैं भी चैन्नेई जाऊंगी। दोनों साथ चलेंगे। चीनू बातों में आकर दिल्ली पहुंच गई। जहां से वह तनु के कहने पर उसके पास हरियाणा चली गई।



इसके बाद तनु ने 21 अगस्त को उससे पलवल चलने के लिए बोला। दोनों पलवल जाने के लिए ट्रेन में चढ़ गई। भीड़ अधिक होने के कारण तनु ने दूसरे डिब्बे में शिफ्ट होने लिए जगह देखने की बात कही। उसका बैग और मोबाइल भी ले लिया। उसने दूसरे के फोन से उससे संपर्क किया तो बोली मैं इसी ट्रेन में हूं। पलवल आने के बाद तनु ट्रेन में नहीं मिली।