सोशल मीडिया पर वायरल हुआ ये जोक, पड़ गए लेने के देने

Daily news network Posted: 2017-07-28 13:22:26 IST Updated: 2017-07-28 13:22:26 IST
सोशल मीडिया पर वायरल हुआ ये जोक, पड़ गए लेने के देने
  • भाजपा की नागालैण्ड यूनिट ने पोस्ट करने वाले युवक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई , जबकि युवक ने इस तरह का कोई कमेंट करने से इनकार कर रहा है।

कोहिमा।

नागालैण्ड के एक युवक ने कुछ दिन पहले पहले सोशल मीडिया पर एक विवादित बयान पोस्ट किया था। इसमें आरोप लगाया गया था कि वोखा जिले के पांग्ती गांव में एक जनसभा के दौरान भाजपा नेता ने ईसाई समुदाय को कमतर बताया था। बुधवार को भाजपा की नागालैण्ड यूनिट ने पोस्ट करने वाले युवक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई , जबकि युवक ने इस तरह का कोई कमेंट करने से इनकार कर रहा है।


युवका की पहचान ओपेनथुंग ओडुयो के रूप में हुई है।वह पांग्ती गांव का रहने वाला है।  24 जुलाई को पेनथुंग ने व्हाट्सऐप ग्रुप में एक विवादित पोस्ट अपलोड की थी। यह पोस्ट तुरंत वायरल हो गई। इस पोस्ट पर नागालैण्ड की चर्च बॉडीज समेत कई संगठनों ने आलोचना की। पोस्ट में कहा गया था, जीसस विकास नहीं ला सकते, केवल भाजपा सरकार ही विकास ला सकती है। नागालैण्ड के वोखा जिले के पांग्ती गांव में 19 जुलाई 2017 को नॉर्थईस्ट इंडिया के भाजपा के प्रभारी सचिव अनंत नारायण मिश्रा ने यह बात कही थी। यह पोस्ट तुरंत गंभीर मामले में तब्दील हो गई जब स्थानीय पादरी रेव अमो हुम्तसोए ने एनबीसीसी,सीआरसी,एनईआई,कैथोलिक चर्च, नागालैण्ड क्रिश्चियन फोरम, नागालैण्ड थियोलिजिकल एसोसिएशन,नेशनल चर्च काउंसिल ऑफ इंडिया और सीबीसीएनईआई को पत्र सौंपा।


इसमें मामले की जांच की मांग की गई। रेव अमोस ने पत्र में लिखा, हम भारत के ईसाईयों की रक्षा के लिए मुंहतोड़ जवाब देकर प्रतिकार की प्रशंसा करेंगे। हम भाजपा के खिलाफ नहीं है लेकिन कुछ गैर जिम्मेदार उन्मादी नेताओं के खिलाफ हैं। इस पर भाजपा की नागालैण्ड यूनिट ने बुधवार को नगा यूथ ओपेनथुंग के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। भाजपा ने पोस्ट को पार्टी व अनंत मिश्रा के खिलाफ झूठा प्रचार बताया। पार्टी ने कहा कि इसके जरिए भाजपा की छवि खराब करने की कोशिश की गई है। एफआईआर कॉपी के मुताबिक भाजपा की स्टेट यूनिट ने कहा है कि पोस्ट से सांप्रादायिक भावनाएं भड़काकर खासतौर पर नगाओं की, ध्रुवीकरण की कोशिश की गई। साथ ही इससे पूरे देश में कन्फ्यूजन पैदा किया गया,जिससे राज्य के सभी समुदायों और अलग अलग धर्मों के लोगों के शांति पूर्ण सह अस्तित्व को नुकसान पहुंचाया जाए।


जब मामला हाथ से निकल गया तो ओपेनथुंग ने बुधवार को वोखा जिले के भाजपा अध्यक्ष को एक पत्र लिखा, जिसमें माफी मांगी गई। ओपेनथुंग ने पत्र में कहा, जो भी पोस्ट में लिखा गया था वह निराधा है और अफवाहें है। मैंने तो

इसे सिर्फ दोस्तों के छोटे से ग्रुप में शेयर किया था लेकिन दुर्भाग्य से यह पूरे राज्य में फैल गई। ओपेनथुंग ने अनंत मिश्रा को पत्र लिखा,जिसमें माफी स्वीकार करने का अनुरोध किया गया। पत्र में लिखा, मेरा पार्टी के

सेंट्रल लीडर की छवि को नुकसान पहुंचाने का इरादा नहीं था, इसलिए मैं माफी मांगता हूं। हालांकि भाजपा के नेताओं का कहना है कि माफी मांगने के बावजूद एफआईआर वापस नहीं ली जाएगी।