IAS अधिकारी ने 50 वर्ष से बिछड़ी महिला को परिवार से मिलवाया, कायम की अनोखी मिसाल

Daily news network Posted: 2017-10-22 16:26:17 IST Updated: 2017-10-22 16:26:17 IST
IAS  अधिकारी ने 50 वर्ष से बिछड़ी महिला को परिवार से मिलवाया, कायम की अनोखी मिसाल
  • नागालैंड की महिला जो करीब 50 वर्ष पहले अपने परिवार से बिछड़ चुकी थी। अपने परिवार को मिलने के लिए वह तड़पती रहती थी।

संगरूर/लहरागागा।

नागालैंड की महिला जो करीब 50 वर्ष पहले अपने परिवार से बिछड़ चुकी थी। अपने परिवार को मिलने के लिए वह तड़पती रहती थी। लहरागागा की जमपल आई.ए.एस. अधिकारी प्रीति गोयल ने उनके बिछड़े परिवार के साथ मिलाकर एक मिसाल कायम की है।

हालांकि उक्त आई.ए.एस. अधिकारी को उसे परिवार से मिलाने में करीब 2 वर्ष का समय लगा परंतु उसकी मेहनत रंग लाई और उसकी कोशिशों से ही उक्त महिला अपने परिवार को मिलकर खुशी से फूली नहीं समा रही। 

जानकारी के अनुसार लहरागागा का रहने वाला वकील चंद नागालैंड में फौज की नौकरी करता था। नौकरी दौरान वकील चंद की मुलाकात अनीता के साथ हुई और दोनों में प्यार हो गया, जिसके चलते वकील व अनीता ने 1967 में लव मैरिज कर ली व दोनों 1971 को लहरागागा आकर रहने लगे परंतु अनीता हमेशा अपने नागालैंड रहते परिजनों को याद कर रोती रहती। 

यहां तक कि वह अपने घर का पता भी भूल गई थी। उसको सिर्फ इतना ही याद थी कि उसका पिता अस्पताल में काम करता था और उसका घर एक थिएटर के पास था। 

अनीता कई बार डा. प्रीति गोयल, जो उसके पड़ोस में ही रहती हैं, के साथ अपने परिवार की बात छेड़कर रोने लग जाती थी परन्तु प्रीति गोयल ने अनीता के साथ वायदा किया कि वह एक दिन उसे उसके परिवार के साथ जरूर मिलवाएगी। यह वायदा उसने करीब 10 वर्ष पहले किया था। 

उसके बाद प्रीति ने आई.ए.एस. का टैस्ट दिया व 2015 में बंगाल में आई.ए.एस. अफसर बनकर अपनी ड्यूटी ज्वाईन की। प्रीति गोयल ने अनीता के साथ जो वायदा किया था उसे वह भूली नहीं थी। उसने अपने अन्य आई.पी.एस. दोस्तों की मदद ली, जो नागालैंड के रहने वाले थे, उनको अनीता के परिवार के बारे हर हालत में पता लगाने के लिए कहा व 2 वर्ष की लगातार सख्त मेहनत के बाद नागालैंड में आखिरकार अनीता का परिवार उनको मिल ही गया, जिसके बाद उन्होंने अनीता की वीडियो कालिंग द्वारा नागालैंड में उसके परिवार के साथ बात करवाई। 

आई.ए.एस. प्रीति गोयल की माता कांता गोयल ने बताया कि जब अनीता की उसके परिवार के साथ बात हुई तो भावुक हुआ परिवार 15 मिनट तक रोता रहा क्योंकि वह 50 वर्ष बाद अपनी बेटी के साथ बात कर रहे थे। प्रीति गोयल की सहायता से अनीता अपने पोती और पोते के साथ नागालैंड अपने परिवार को मिलकर आई है। 

डॉ. प्रीति की मां कांता गोयल ने कहा कि उनको अपनी बेटी पर मान है कि उसने एक बिछड़ी हुई बेटी को उसके परिवार के साथ मिलवा कर भलाई का काम किया है और दूसरों को भी समाज सेवा करने के लिए प्रेरित किया है। दूसरी तरफ अनीता और उसका परिवार भी डॉ. प्रीति का तहे दिल से धन्यवाद कर रहा है, जिन्होंने 50 वर्ष बाद उसे परिवार से मिलाया है।