Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

खौफनाक है दुल्हन का पुतला, 80 साल से मोम के पुतले में दफन है ये राज!

Patrika news network Posted: 2017-03-09 14:57:40 IST Updated: 2017-03-09 14:57:40 IST
खौफनाक है दुल्हन का पुतला, 80 साल से मोम के पुतले में दफन है ये राज!
  • दुनिया में कई ऐसी चीजें है जिसके बारे में जानकर हम हैरान रह जाते है। उसपर यकीन करना काफी मुश्किल होता है लेकिन कई बार यह बिल्कुल सच भी होता है।

दुनिया में कई ऐसी चीजें है जिसके बारे में जानकर हम हैरान रह जाते है। उसपर यकीन करना काफी मुश्किल होता है लेकिन कई बार यह बिल्कुल सच भी होता है।



मेक्सिको की एक दुकान में पिछले 80 सालों से एक राज दफन है। यहां एक दुकान में दुल्हन का पुतला बंद है। जिसकी सच्चाई लोगों के होश उड़ा दिए हैं।



बता दें कि इस पुतले का नाम ला पस्क्युएलीटा रखा गया है। सबसे पहले 25 मार्च 1930 को इसे मेक्सिको के इस दुकान में कांच के अंदर लगाया गया था। सफेद रंग की दुल्हन की पोशाक पहने ये पुतला बिल्कुल असली दिखाई देता है।


पहले लोग इसकी खूबसूरती देखने आते थे। फिर आसपास के लोगों ने नोटिस किया कि इस पुतले का चेहरा दुकान की मालकिन पस्क्युएला एस्पार्जा से मिलती है, जिसकी 25 मार्च 1930 से कुछ ही दिन पहले मौत हुई थी।



दरअसल, पस्क्युएला की शादी होने वाली थी, लेकिन इससे ठीक पहले ही जहरीली मकड़ी के काटने से उसकी मौत हो गई थी। लोगों के अनुसार पस्क्युएला की मां अपनी बेटी से बहुत प्यार करती थी। इसलिए उसे पस्क्युएला की डेड बॉडी पर मोम की परत चढ़वा दी और उसे पुतले का रूप दे दिया।



हालांकि, पुतले के बारे में लोगों द्वारा कही जा रही बातों को पस्क्युएला की मां ने अफवाह ही करार दिया है, लेकिन उसकी बातों पर किसी ने यकीन नहीं किया।


इस पुतले की आंखों पर कांच चढ़ाया गया है, जिसके पीछे से किसी इंसान की आंखों की झलक साफ दिखाई देती है। इसकी अंगुलियां गौर से देखेंगे, तो आप भी यकीन करेंगे कि वाकई मोम की परत के नीचे एक महिला की बॉडी मौजूद है।



इस दुल्हन के लिबास में खड़ी मूर्ति के बाल बिल्कुल असली हैं। कहा जाता है कि जिस दुकान में ये पुतला रखा गया है, ये उसकी मालकिन की बॉडी है। हालांकि, कई एक्सपर्ट्स का कहना है कि इतने लंबे समय तक किसी की बॉडी का स्किन टोन प्रिसर्व करना काफी मुश्किल है।



कई लोग तो ये भी कहते हैं कि रात के समय ये पुतला खुद-ब-खुद हिलता भी है। पिछले कई सालों से सिर्फ इस पुतले को देखने के लिए कई टूरिस्ट इस दूकान तक खींचे चले आते हैं।