...तो उतार दीजिए अपने सारे कपड़े, मिलेगी ऐसी खुशी

Daily news network Posted: 2017-02-09 11:53:25 IST Updated: 2017-02-09 11:53:25 IST
...तो उतार दीजिए अपने सारे कपड़े, मिलेगी ऐसी खुशी
  • खुश रहने के बहुत से तरीके हैं। उनमें से एक तरीका है कपड़े उतार देना। आप कहेंगे भला ऐसा भी कहीं होता है तो जनाब ये बिल्कुल सही है। कपड़े उतारकर आप खुश हो सकते हैं। हाल ही में एक रिसर्च की गर्इ है। इस रिसर्च में इस बात के संकेत मिले हैं।

नई दिल्ली।

खुश रहने के बहुत से तरीके हैं। उनमें से एक तरीका है कपड़े उतार देना। आप कहेंगे भला ऐसा भी कहीं होता है तो जनाब ये बिल्कुल सही है। कपड़े उतारकर आप खुश हो सकते हैं। हाल ही में एक रिसर्च की गर्इ है। इस रिसर्च में इस बात के संकेत मिले हैं।

न्यूडिज्म के साइकलॉजिकल प्रभावों का अध्ययन करने वाली इस रिसर्च के मुताबिक ऐसी कर्इ बातें हैं जिनके बारे में आपको जानना बहुत ही जरूरी है।

शोधकर्ताओं ने इस रिसर्च से मिले नतीजों के आधार पर बताया है कि प्रकृति के साथ जुड़ी गतिविधियों में हिस्सा लेने वाले लोग अपने शरीर और जीवन के विषय में बेहतर अनुभव करते हैं। जितना ज्यादा आप नेकेड रहेंगे उतना ही ज्यादा खुद को खुशी से सराबोर पाएंगे।

गोल्डस्मिथ यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन के मुख्य शोधकर्ता डॉक्टर केऑन वेस्ट कहते हैं कि नेचरिस्ट काफी समय से ऐसे दावे करते आए हैं। हालांकि इन दावों की प्रामाणिकता के लिए अभी तक कोर्इ शोध नहीं किया गया था। कहा जाता था कि प्रकृति के साथ जुड़ी गतिविधियों से हम ज्यादा खुश महसूस करते हैं, लेकिन क्यों?

इस शोध के नतीजों से ये भी निष्कर्ष मिलता है कि हम खुद के नेकेड होने से ज्यादा दूसरे के नेकेड होने पर ज्यादा खुश होते हैं। 'जर्नल ऑफ हैप्पीनेस स्टडीज' में इस निष्कर्ष को प्रकाशित किया गया है।

डॉ. वेस्ट का कहना है कि यदि कोर्इ इंसान कपड़े उतारता है तो उसे मेंटली चैलेंज्ड न समझें। उन्होंने कहा कि नग्नतावाद के जरिए शारीरिक असंतुष्टि से छुटकारा भी मिलता है।