भूकंप के कारण खुद ब खुद बनी थी मेघालय की नफक लेक

Daily news network Posted: 2018-04-22 16:49:00 IST Updated: 2018-04-24 15:58:54 IST
  • नफक लेक या झील मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह राज्य के लोकप्रिय पर्यटन स्थल विलियमनगर से 45 किमी. दूरी पर स्थित है।

नफक लेक या झील मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह राज्य के लोकप्रिय पर्यटन स्थल विलियमनगर से 45 किमी. दूरी पर स्थित है। यह झील फिशिंग करने और चिड़ियों को देखने के लिए बड़ी अनुकूल जगह है। नफक झील मेघालय की प्राकृतिक रूप से बनी झील है। यह 1897 के दौरान आए भूकंप यानी राष्ट्रीय आपदा के दौरान खुद ब खुद बनी। नफक झील तूरा रेंज से 112 किमी. दूर और सिमसैंग नदी के पास है।


इस झील के बारे में कई गारो जनजातीय किंवदंतियों भी प्रचलित हैं। नफक के बारे में कहा जाता है कि यह जमीन मृत आत्माओं के लिए थी। लेकिन वे यहां होने वाली हलचल से परेशान थे। इसलिए ये मृत आत्माएं यहां से नाराज होकर बालपक्रम की गुफाओं में चली गईं।


रेलमार्ग से

नफक झील की यात्रा के लिए रेलमार्ग चुनने पर आपको सबसे पहले गुवाहाटी आना होगा। गुवाहाटी देशभर से ट्रेन रूट से जुड़ा हुआ है। गुवाहाटी पहुंचने के बाद आगे का रास्ता सड़क मार्ग का है।


सड़क मार्ग से

इस झील तक आने के लिए आपको पहले गुवाहाटी आना होगा। यहां से आपको बस सुविधा मिलेगी। राज्य का परिवहन विभाग यहां से शिलांग और अन्य पर्यटन स्थलों के लिए साधारण और लग्जरी बसें चलाता है। यह आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सी बस या टैक्सी चुनते हैं।


हवाई मार्ग से

नफक झील की यात्रा के लिए किसी भी व्यक्ति को मेघालय के पहाड़ों के तूरा रेंज में पहुंचना होगा। हवाई मार्ग के लिए यहां से सबसे नजदीक गुवाहाटी है। गुवाहाटी से शिलांग बस, कार या निजी टैक्सी से आसानी से पहुंचा जा सकता है। इसके लिए नियमित अंतराल पर बसें हैं।


निजी हेलिकॉप्टर की सुविधा भी आपको मिल जाएगी। हेलिकॉप्टर एक निजी कंपनी पवनहंस हेलिकॉप्टर लिमिटेड के हैं। मेघालय सरकार ने इस कंपनी को बाकायदा लाइसेंस दे रखा है।