मिजोरम-असम के बीच सीमा विवाद, गृह मंत्रालय ने मुख्य सचिवों की बुलाई बैठक

Daily news network Posted: 2018-03-14 07:45:02 IST Updated: 2018-03-14 07:45:02 IST
मिजोरम-असम के बीच सीमा विवाद, गृह मंत्रालय ने मुख्य सचिवों की बुलाई बैठक
  • मिजोरम और असम के बीच सीमा विवाद पर वार्ता फिर से शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने अगले सप्ताह इन दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों की एक बैठक बुलाई है।

गुवाहाटी

मिजोरम और असम के बीच सीमा विवाद पर वार्ता फिर से शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने अगले सप्ताह इन दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों की एक बैठक बुलाई है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मिजोरम के मुख्यमंत्री लाल थनहवला को इस संबंध में अवगत कराया है।


मुख्यमंत्री थनहवला ने राजनाथ सिंह से मिजोरम और असम के बीच चल रहे सीमा विवाद में हस्तक्षेप की मांग की थी और इस मुद्दे को बातचीत के जरिए सुलझाने के लिए कहा था, ताकि सीमा पर शांति का माहौल सुनिश्चित हो सके।


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि केन्द्रीय गृह सचिव राजीव गौबा, मिजोरम और असम के मुख्यमंत्रियों से मुलाकात करेंगे और सीमा विवाद पर बातचीत को आगे बढ़ाएंगे। गृह मंत्री ने मिजोरम के मुख्यमंत्री से सीमा पर शांति सुनिश्चित करने और वहां लोगों को प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं देने का भी आग्रह किया है। अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय असम और मिजोरम की सरकारों के संपर्क में है। राज्य सरकारों को कानून एवं व्यवस्था की स्थिति सुनिश्चित करने के लिए उचित कदम उठाने और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कहा है।


गृह मंत्रालय ने राज्य सरकारों को निषेधात्मक आदेशों को लागू करने और जहां आवश्यक हो वहां सुरक्षा बलों की तैनाती करने के लिए कहा है। बता दें कि  कुछ प्रदर्शनकारी छात्रों पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था जिसके बाद असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति हिंसक हो गई। मिजोरम के छात्र संगठनों ने मांग की थी कि असम के पुलिसकर्मी रविवार तक विवादित स्थल से हटें।


मिजोरम पुलिस ने आरोप लगाया कि जोपुई में मिजोरम का एक छात्र असम पुलिस की गोली से घायल हो गया था। उसका आरोप है कि असम पुलिस ने यह गोलीबारी छात्रों के एक समूह पर की थी तो वहीं असम पुलिस ने इन आरोपों का खंडन किया है। उसका दावा है कि प्रदर्शनकारियों को केवल वापस भेजा गया जिन्होंने राज्य में जबरन घुसने की कोशिश की थी। इस घटना में एक पत्रकार समेत कुछ अन्य लोग घायल हो गए थे। मिजोरम के सीमावर्ती असम के हेलाकंडी जिला प्रशासन ने 7 मार्च को धारा 144 के तहत निषेधात्मक आदेश लागू किए थे।