मुख्यमंत्री बनते ही कांग्रेस को दिया था धोखा, कुछ ऐसी है अरुणाचल के CM की कहानी

Daily news network Posted: 2018-04-15 17:24:17 IST Updated: 2018-04-16 13:47:50 IST
मुख्यमंत्री बनते ही कांग्रेस को दिया था धोखा, कुछ ऐसी है अरुणाचल के CM की कहानी
  • पेमा खांडू पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश के 9वें मुख्यमंत्री है। 17 जुलाई 2016 को खांडू अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे।

पेमा खांडू पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश के 9वें मुख्यमंत्री है। 17 जुलाई 2016 को खांडू अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे। वर्तमान में खांडू देश के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं। जब खांडू ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी तब वे कांग्रेस पार्टी के नेता थे।


खांडू के सीएम पद की शपथ लेने के साथ ही अरुणाचल प्रदेश में राजनीतिक उथल पुथल शुरू हो गई। 16 सितंबर 2016 को खांडू ने 43 विधायकों के साथ कांग्रेस का हाथ छोड़कर पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल में शामिल हो गए। लेकिन यहां भी ज्यादा दिनों तक नहीं रह पाए और दिसंबर 2016 में उन्होंने अपने 43 विधायकों के साथ भाजपा में शामिल होने के बाद अरुणाचल प्रदेश में स्थिर सरकार बनाई।


बता दें कि 38 वर्षीय खांडू दिवंगत मुख्यमंत्री दोरजू खांडे के बड़े पुत्र हैं। वे दिल्ली के हिंदू कॉलेज से ग्रैजुएट हैं। पिता के निधन के कारण कम उम्र में ही उनका राजनीति में आगमन हुआ।


खांडू का जन्म 21 अगस्त 1979 को तवांग दिले के ग्यांगकर गांव में हुआ। उनकी पहचान मझे हुए राजनेता के तौर पर है। दोरजी खांडू की 2011 में हेलिकॉप्टर हादसे में मौत हो गई थी। पिता के निधन के कारण रिक्त हुई सीट पर जीतकर पेमा खांडू पहली बार अरुणाचल प्रदेश विधानसभा पहुंचे।


मुक्तो(एसटी)निर्वाचन क्षेत्र से वह निर्विरोध विधायक चुने गए और जल्द ही जल संसाधन विकास एवं पर्यटन मंत्री के तौर पर राज्य कैबिनेट में शामिल हो गए।


साल 2000 में कांग्रेस में शामिल हुए और 2005 में अरुणाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव बने। 2010 में तवांग जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बने।


वर्ष 2014 के विधानसभा चुनावों में मुक्तो से खांडू फिर निर्विरोध चुने गए। खांडू के पास 129 करोड़ की संपत्ति है। देश के सबसे कम उम्र के सीएम के रूप में एमओ हसन फारुक का नाम दर्ज है। वे 29 साल की उम्र में पुड्डुचेरी के मुख्यमंत्री बने थे।