चेतावनी जारी, भारत के इस राज्य में बाढ़ का खतरा

Daily news network Posted: 2018-04-22 10:22:23 IST Updated: 2018-04-22 10:22:23 IST
चेतावनी जारी, भारत के इस राज्य में बाढ़ का खतरा

भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों के ऊंचे हिस्सों में लगातार बारिश की वजह से ब्रह्मपुत्र नदी का जलस्तर उफान पर है। बारिश की वजह से ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियों में भी जलस्‍तर बढ़ गया है। असम के निचले हिस्सों में बढ़ते जल स्तर की वजह से केंद्रीय जल आयोग ने बाढ़ चेतावनी जारी की है। ब्रह्मपुत्र देश की पांच प्रमुख नदियों में से एक है। आपको बता दें कि असम में हर साल होने वाली बाढ़ की त्रासदी से बड़े पैमाने पर फसलों और संपत्ति को नुकसान होता है। यह हर साल राज्‍य के एक बड़े भू-भाग को बाढ़ का पानी अपना शिकार बना लेता है।



बता दें कि साल 2017 में बाढ़ से राज्य में कम से कम 85 लोगों की मौत हो गई थी। लगभग 4 लाख लोग प्रभावित हुए थे। हजारों लोगों को बेघर होना पड़ा था। वहीं 60 से ज्यादा जानवरों की मौत हो गई थी। इस बाढ़ में असम सरकार की ओर से 128 रिलीफ कैंप बनवाए गए थे। 



साल 2016 में 1.8 मिलियन लोग प्रभावित हुए थे, 28 से ज्यादा लोगों की मौत बाढ़ की वजह से हुई थी। जुलाई 2016 में असम में 60 प्रतिशत अधिक बारिश हुई थी। इस वजह से राज्य बाढ़ की चपेट में आ गया था। बाढ़ ने 200000 हेक्टेयर की फसल को प्रभावित किया था। बाढ़ की वजह से राज्य में चाय की 21-30 प्रतिशत फसल को नुकसान पहुंचा था। 



2015 के बाढ़ में 42 लोगों की मौत हुई थी। इस बाढ़ में 21 जिलों के 1.65 मिलियन लोग, 2100 गांव और करीब 180000 हेक्टेयर की फसल प्रभावित हुई थी। बता दें कि राज्य में 1950 के बाद से 12 विनाशकारी बाढ़ आए हैं। जिसमें राज्य का भारी नुकसान हुआ है। 2013 की बात करें तो इस साल ब्रह्मपुत्र नदी में आए बाढ़ की वजह से जून में 27 में 12 जिले बाढ़ की चपेट में थे। वहीं 100,000 लोग बाढ़ और पीने के पानी की समस्या से जूझ रहे थे। इस बाढ़ में 396 गांव प्रभावित हुए थे और 7000 हेक्टेयर फसल बर्बाद हुई थी।  वहीं साल 2012 में आए बाढ़ की वजह से 124 लोगों की जान चली गई थी। 6 मिलियन लोग विस्थापित हुए थे। इस साल काजीरंगा नेशनल पार्क में 540 जानवरों की मौत हो गई थी।