नागालैंड में हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने पद से की इस्तीफे पेशकश

Daily news network Posted: 2018-03-11 09:13:20 IST Updated: 2018-03-11 11:49:39 IST
नागालैंड में हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने पद से की इस्तीफे पेशकश
  • नागालैंड में हुए विधानसभा चुनाव में एक भी सीट हासिल नहीं कर पाने के बाद, नगालैंड कांग्रेस के अध्यक्ष के थेरी ने आज नैतिक आधार पर अपने पद

कोहिमा

विधानसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त के बाद नागालैंड कांग्रेस के अध्यक्ष के. थेरी ने नैतिक आधार पर अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि थेरी ने विधानसभा चुनाव पर चर्चा के लिए बुलायी गयी पार्टी की प्रदेश कार्यकारी की बैठक में इस्तीफे की पेशकश की।


सूत्रों के अनुसार थेरी को सीधे अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने नियुक्त किया था, इसलिए उन्हें एआईसीसी को ही अपना इस्तीफा देना होगा। कांग्रेस ने 27 फरवरी को हुए नागालैंड विधानसभा चुनाव में कुल 60 में से 18 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन राज्य में कांग्रेस एक भी सीट जीतने में नाकाम रही, जिसके बाद कांग्रेस के अध्यक्ष के थेरी ने पार्टी से इस्तीफे की पेशकश की है।


गौरतलब है कि हाल में हुए चुनाव में एनडीपीपी ने बीजेपी के समर्थन के साथ वरिष्ठ नेता नेफ्यू रियो की अगुवाई में सरकार बनाई है। सीएम रियो के साथ 10 विधायकों ने नागालैंड में शपथ ली। सीएम रियो को 16 मार्च तक या इससे पहले सदन में बहुमत साबित करने होगा। रियो के पास भाजपा के 12 विधायकों का,  एक जदयू और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन हासिल है, इसके साथ में एनडीपीपी के 18 विधायक हैं।



बता दें कि नागालैंड की एनडीपीपी और भाजपा गठबंधन की सरकार ने राज्य के लिए पहले 100 दिन की कार्ययोजना तैयार की है। नवनिर्वाचित मंत्रियों ने सचिवालय में पहली कैबिनेट बैठक की और विभागों के लिए लक्ष्य तय किए। कैबिनेट सचिव तेमजेन तोय द्वारा जारी बयान में कहा गया कि अगले 100 दिन में किए जाने वाले कार्यों के बारे में सूचना उपलब्ध कराने के लिए सभी सरकार विभागों को अपनी वेबसाइट, पोर्टल और सोशल मीडिया एकाउंट खोलने होंगे।



मुख्यमंत्री रेफ्यू रियो ने शपथग्रहण समारोह के बाद लोगों के लिए सुशासन, पारदर्शिता और योग्यता आधारित संस्कृति का वायदा किया था। कैबिनेट ने विकास परियोजनाओं को पूरा करने के लिए विशेष समय सीमा तय करते हुए विभागों द्वारा की जाने वाले प्रगति और मंत्रालयों के प्रदर्शन की समय-समय पर समीक्षा करने का भी फैसला किया।