प्राकृतिक आपदा क्षेत्र होने के बावजूद सिक्किम के पास नहीं है कोई रिकॉर्ड

Daily news network Posted: 2018-05-12 18:11:41 IST Updated: 2018-05-12 18:15:50 IST
प्राकृतिक आपदा क्षेत्र होने के बावजूद सिक्किम के पास नहीं है कोई रिकॉर्ड
  • राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित सेमिनार में सिक्किम आैर दार्जिलिंग में प्राकृतिक आपदा होने के काेर्इ सरकारी रिकार्ड न होने पर कई सवाल उठने लगे हैं।

गंगटाेक।

राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित सेमिनार में सिक्किम आैर दार्जिलिंग में प्राकृतिक आपदा होने के काेर्इ सरकारी रिकॉर्ड न होने पर कई सवाल उठने लगे हैं। शहर के एक निजी रिसोर्ट में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में पश्चिम बंगाल सरकार डिजास्टर मैनेजमेंट एंड सिविल डिफेंस के संयुक्त सचिव प्रशांत कुमार मंडल भी मौजूद थे।


इसी दौरान कोलकाता विश्वविद्यालय के ज्योलॉजी विभाग के पूर्व अध्यापक ने अब्दुल मार्टिन ने प्रश्न उठाया कि सिक्किम-दर्जिलिंग प्राकृतिक आपदाओं का क्षेत्र माना जाता है। लेकिन इसके बावजूद कोई सरकारी रिकार्ड न होने से काम करने में परेशानी होती है।


बता दें कि गुरूवार को भी द माउंटेन व गैर सरकारी संस्था कारटीस और दार्जिलिंग हिमालयन इंस्टि्यूट की ओर से कार्यशाला का आयोजन कियागया था। इसमें सरकार व जीटीए के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था।


कालिम्पोंग के डाइरेनी झोड़ा चिनोक में सरकार आइआइटी खड़गपुर से मिलकर विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं पर तीन दिवसीय कार्यशाला कर रही है। इस दौरान जीटीए के प्रतिनिधियों ने 2009 में आए 'आइला' का अनुभव लोगों में बांटा।