स्टार्टअप योजना के तहत सिक्किम के युवाओं को मुख्यमंत्री देंगे 1 करोड़ का इनाम

Daily news network Posted: 2018-03-11 11:37:27 IST Updated: 2018-03-11 14:06:11 IST
स्टार्टअप योजना के तहत सिक्किम के युवाओं को मुख्यमंत्री देंगे 1 करोड़ का इनाम
  • सिक्किम विधानसभा सत्र के अंतिम दिन सीएम पवन चामलिंग ने युवाओं को बड़ा तोहफा दिया। उन्होंने केंद्र की तर्ज पर राज्य में भी मुख्यमंत्री स्टार्टअप योजना लागू करने का आदेश देते हुए

गंगटोक

सिक्किम विधानसभा सत्र के अंतिम दिन सीएम पवन चामलिंग ने युवाओं को बड़ा तोहफा दिया। उन्होंने केंद्र की तर्ज पर राज्य में भी मुख्यमंत्री स्टार्टअप योजना लागू करने का आदेश देते हुए सफल युवा उद्यमियों को एक करोड़ रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की है।


इसके साथ ही सीएम चामलिंग ने कई और घोषणाएं भी की, जिनमें आगामी 1 अप्रैल से कर्मचारियों को वेतनमान के अनुरूप भुगतान करने की घोषणा भी शामिल है। उन्होंने 50 वर्ष की आयु से अधिक के किसानों को एक हजार रुपए मासिक भत्ता, प्रगतिशील किसानों को एक करोड़ रुपए ईनाम तथा सब्जी उत्पादन में नुकसान उठाने वाले किसानों को सरकार की ओर से न्यूनतम समर्थन मूल्य देने की भी घोषणा की।



सीएम ने शहर व बाजारों में स्थानीय भाषा में दिशा सूचक बोर्ड लगाने के आदेश भी दिए। वहीं टैक्सी चालकों के लिए महत्वपूर्ण घोषणा में कहा कि दुर्घटना में मरने वाले टैक्सी चालकों के परिजनों को सरकार की तरफ से 5 लाख रुपए का मुआवजा प्रदान किया जाएगा। वहीं एमआर में पांच वर्ष से अधिक से कार्यरत कर्मचारियों को स्थाई करने की भी घोषणा की। चामलिंग ने आवासीय प्रमाणपत्र धारकों की दुकान अथवा प्रतिष्ठान उनके पुत्र अथवा पत्‍‌नी के नाम स्थानांतरण करने का नियम लागू करने के भी आदेश दिए।



बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए सिक्किम विधानसभा के पांच दिवसीय सत्र के दौरान कुल 7132 करोड़ रुपए की धनराशि पारित की गई। हालांकि आगामी 30 जून तक उक्त धनराशि को राजकीय प्रयोग में नहीं लाया जा सकेगा तथा विभाग के मद में सुरक्षित कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री पवन चामलिंग ने सदन के अंतिम दिन यह घोषणा करते हुए आदेश जारी किए। विधानसभा सत्र के अंतिम दिन धन्यवाद ज्ञापन प्रस्ताव के दौरान सीएम ने बीते दिनों आवंटित धनराशि का प्रयोग विभागों द्वारा नहीं किए जाने की भी जानकारी सदन को दी।



गौरतलब है कि धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान सदन में अन्य कोई विधायक शामिल नहीं हुए। विधानसभा अध्यक्ष केएन राई ने प्रस्ताव पारित करने के बाद सदन को अनिश्तिकाल के लिए स्थगित कर दिया।