असम में बोले वेंकैया नायडू- सूर्य नमस्कार का धर्म से कोई लेना देना नहीं

Daily news network Posted: 2018-04-19 08:15:35 IST Updated: 2018-04-19 11:28:21 IST
असम में बोले वेंकैया नायडू- सूर्य नमस्कार का धर्म से कोई लेना देना नहीं
  • असम सरकार की नयी स्वास्थ्य योजना ‘ अटल अमृत अभियान ’ के शुभारंभ के अवसर पर उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने लोगों से प्राचीन व्यायाम पद्धति

गुवाहाटी

असम सरकार की नई स्वास्थ्य योजना ‘ अटल अमृत अभियान ’ के शुभारंभ के अवसर पर उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने लोगों से प्राचीन व्यायाम पद्धति पर खड़ा किए जा रहे ‘ व्यर्थ ’ के विवादों से बचने की अनुरोध करते हुए कहा कि योग दुनिया में ‘ सबसे खूबसूरत कसरत’ है और इसका धर्म से कोई लेना देना नहीं है।



नायडू ने कहा कि ‘ सूर्य ’ प्रकृति है। इस तथ्य के बावजूद कुछ लोग ‘ सूर्य नमस्कार ’ पर आपत्ति करते हैं। उन्होंने स्पष्ट किया, ‘‘ अगर आपको सूर्य नमस्कार से समस्या है तो आप चंद्र नमस्कार प्रयोग कर सकते हैं। सूर्य हमें प्रकाश देता है , इसका किसी धर्म से कोई लेना देना नहीं है। ’’


उन्होंने कहा , ‘‘ योग मस्तिक और शरीर का मेल कराता है। यही वजह है कि पूरी दुनिया भारत की ओर देख रही है। इस बात को दिमाग में रखें ... कुछ लोग अनावश्यक विवाद पैदा कर रहे हैं, निरर्थक और बेतुकी। ’’ आधुनिक जीवनशैली की आलोचना करते हुये उन्होंने कहा कि पहले स्कूलों में शारीरिक प्रशिक्षण अनिवार्य था।


उन्होंने कहा , ‘‘ दुर्भाग्यवश अब छात्र सुबह से लेकर शाम तक पढ़ाई करते हैं। उनका बोझ कम होना चाहिए। मैं खुश हूं कि प्रकाश जावडे़कर ( मानव संसाधन विकास मंत्री ) ने हमें बोझ कम करने का आश्वासन दिया है। शारीरिक कसरत भी स्कूल कार्यक्रम में शामिल होनी चाहिए। ’’ नायडू ने जोर दिया कि फिट , सक्रिय और स्फूर्त रहने के लिए कसरत की जरूरत है। उन्होंने चुटकी ली , ‘‘ वास्तव में आप अपने शरीर की खातिर कसरत करते हैं ना कि भगवान की खातिर और ना ही बाबा रामदेव या नरेन्द्र भाई मोदी की खातिर। ’’