अब फेसबुक आपको देगी 26 लाख रुपए, बस करना होगा ये छोटा का काम

Daily news network Posted: 2018-04-12 13:38:03 IST Updated: 2018-04-12 13:38:03 IST
अब फेसबुक आपको देगी 26 लाख रुपए, बस करना होगा ये छोटा का काम
  • डाटा मिसयूज के आरोपों को झेल रही फेसबुक अब कुछ नए बदलाव के साथ सामने आ रही है। कंपनी ने किसी भी तरह के डाटा मिसयूज की जानकारी देने वालों को इनाम देने की घोषणा की है।

नई दिल्ली।

डाटा मिसयूज के आरोपों को झेल रही फेसबुक अब कुछ नए बदलाव के साथ सामने आ रही है। कंपनी ने किसी भी तरह के डाटा मिसयूज की जानकारी देने वालों को इनाम देने की घोषणा की है। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग की अमरीकी संसद में पेशी से ठीक पहले कंपनी की ओर से ये घोषणा की गई है। कंपनी के मुताबिक, ऐसे लोगों का इनाम दिया जाएगा तो सबूत के साथ फेसबुक को यह बता पाएंगे कि उनके प्लेटफॉर्म पर चलने वाला कोई एप लोगों का डाटा लेकर उसे थर्ड पार्टी को बेच रहा है या कोई एप लोगों का डाटा चुरा रहा है। ऐसे लोगों को कंपनी की ओर से 500 डॉलर से लेकर 40,000 डॉलर यानी करीब 26 लाख रुपए तक का इनाम दिया जाएगा। कंपनी ने यह भी कहा है कि अधिकतम राशि 40 हजार डॉलर से भी ज्यादा हो सकती है।



मार्क जुकरबर्ग ने मांगी थी माफी

गौरतलब है कि फेसबुक ने उपयोगकर्ताओं को निजी डाटा साझा करने के लिए अमरीकी कांग्रेस से माफी मांगी है। सूत्रों के अनुसार सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के सह संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने अमरीकी कांग्रेस से कंपनी द्वारा उपयोगकर्ताओं की निजी जानकारी साझा करने के लिए लिखित में माफी मांगी है। जुकरबर्ग ने अपने माफीनामे में कहा कि हमने अपने उत्तरदायित्व की व्यापकता को समझने में भूल की। यह बहुत बड़ी गलती है। उन्होंने कहा, यह मेरी गलती है और मैं इसके लिए माफी चाहता हूं। अमरीकी कांग्रेस की एक समिति फेसबुक द्वारा उपयोगकर्ताओं के निजी डाटा के प्रबंधन और संरक्षण के मामले की जांच कर रही है।




 

कैंब्रिज एनालिटिका डाटा लीक खुलासे के बाद लगा आरोप

इससे पहले फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी(सीईओ) मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि उनकी कंपनी ने अपने यूजरों के डाटा के पिछले कुछ साल से हो रहे दुरुपयोग को रोकने के लिये पर्याप्त कदम नहीं उठाये। सोशल मीडिया नेटवर्क कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जुकरबर्ग ने इसे लेकर कांग्रेस सदस्यों से माफी भी मांगी। वर्ष 2016 में हुए अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान फेसबुक यूजरों के डाटा के दुरुपयोग के मामले को लेकर जुकरबर्ग दो दिन अमरीकी कांग्रेस के सामने पेश हुए। फेसबुक ने यह माना है कि उसने अमरीका में आठ करोड़ 70 लाख यूजरों की निजी जानकारी राजनीतिक सलाहकार कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के साझा की थी। गौरतलब है कि फेसबुक के खिलाफ आवाज उठनी तब से शुरू हुई जब कैंब्रिज एनालिटिका डाटा लीक सामने आया। इस एजेंसी ने फेसबुक के करोड़ों यूजर्स का डाटा फेसबुक से ही लेकर गलत तरीके से लीक किया, जिसके बाद निजता पर लेकर सवाल उठे और कंपनी के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को माफी मांगनी पड़ी थी।